PDF Ka Full Form In Hindi: पीडीऍफ़ का फुल फॉर्म क्या होता है?

नमस्कार मित्रो, मैं सत्यम कुमार आप सभी का स्वागत करता हूँ अपनी एक नई पोस्ट (PDF Ka Full Form In Hindi) में. आज के इस पोस्ट में हम बात करने वाले है की PDF क्या होता है, PDF ka full form, और PDF कैसे बनाते है.

आज तक आप ने बहुत बार PDF files का यूज़ किया होगा. बहुत बार आपने फ़ोन के स्क्रीन के ऊपर,  कंप्यूटर या लैपटॉप के स्क्रीन के ऊपर PDF files का  इस्तेमाल किया होगा. इसके अलावा आप ने ऑफिस या स्कूल के डाक्यूमेंट्स देखे होंगे जो PDF format में होंगे।

लेकिन क्या आपको पता है ये पीडीऍफ़ क्या होता है, PDF full form kya hai और हम इसका इतना ज्यादा इस्तेमाल क्यों कर रहे है?

अगर नहीं तो आप इस पोस्ट को सुरु से अंत तक पढ़ कर इन सभी सवालो का जवाब जान सकते है.

PDF Ka Full Form Kya Hota Hai?

pdf ka full form

पीडीऍफ़ क्या होता है ?

पीडीऍफ़ का मतलब होता है पोर्टेबल डॉक्यूमेंट फॉर्मेट (Portable Document Format). जैसा की इसके नाम को पढ़ कर पता चल रहा है की PDF किसी document का file format होता है जिसका इस्तेमाल हम डॉक्यूमेंट को electronic form में दर्शाने के लिए करते है. इसे मूलतः Adobe के द्वारा 1992 में विकशित किया गया था. तब से लेकर अब तक विभिन तरह के documents जैसे की text और image में इसको काम में लिया जाता है.

ऑफिस के projects से लेकर स्कूल के assignments तक इसका इस्तेमाल किया जा रहा है क्यूंकि ये डाक्यूमेंट्स को सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर, और ऑपरेटिंग सिस्टम से स्वंतंत्र होकर electronic form में प्रदर्शित करता है. ये एक universal file format है जिसे  कई तरह से काम में लिया जा सकता है.

पीडीऍफ़ का फुल फॉर्म क्या होता है?

PDF ka full form पोर्टेबल डॉक्यूमेंट फॉर्मेट (Portable Document Format) होता है जिसे हम हिंदी में वहनीय दस्तावेज स्वरूप भी कहते है.

pdf ka full form

पीडीऍफ़ की अवसक्ता क्यों पड़ी?

जब हम किसी डॉक्यूमेंट या फाइल को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में ट्रांसफर करते है तो उसका फाइल फॉर्मेट, लेआउट, फॉण्ट बदल सा जाता है क्यूंकि ये जरूरी नहीं है की सभी तरह के कंप्यूटर के अंदर एक ही तरह का ऑपरेटिंग सिस्टम, फॉण्ट या सॉफ्टवेयर हो. तो ऐसे में हमे बहुत सारे प्रोब्लेम्स का सामना करना पड़ता है. इन्ही सब से बचने के लिए एक अलग तरीके का file format develop किया गया जो operating system और software independent हो जिसे हम पीडीऍफ़ कहते है.

पीडीऍफ़ फाइल्स के फायदे 

पीडीऍफ़ फाइल्स यूज़ करने के बहुत सारे फायदे है. इन में से कुछ प्रमुख फायदे निचे दिए गए है:

  • पीडीऍफ़ फाइल्स को किसी भी तरीके के डिवाइस, सॉफ्टवेयर या ऑपरेटिंग सिस्टम के अंदर रीड किया जा सकता है.

 

  • जब हम पीडीऍफ़ फाइल्स को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में ट्रांसफर करते है तो उसके कंटेंट या फिर लेआउट में कोई चेंज नहीं आता है.

 

  • पीडीऍफ़ फाइल्स के अंदर text और graphics को एक साथ मर्ज किया जा सकता है.

 

  • पीडीऍफ़ फाइल्स को क्रिएट करना, यूज़ करना, और रीड करना बहुत आसान होता है.

 

  • पीडीऍफ़ फाइल्स को आप Password लगा कर Secure रख सकते है.

 

  • आप अपने पीडीऍफ़ फाइल में digital signature या फिर watermark ऐड कर सकते है.

 

  • पीडीऍफ़ फाइल्स को कम size के फाइल में compress किया जा सकता है.

 

  • Compress किये गए फाइल के quality में कोई चेंज देखने को नहीं मिलता है.

 

  • पीडीऍफ़ फाइल्स में आप hyperlink का इस्तेमाल कर सकते है.

पीडीऍफ़ फाइल्स के प्रकार 

ऐसे देखा जाये तो पीडीऍफ़ फाइल्स 3 प्रकार के होते है.

  1. Digitally Created Files: जब आप कोई डॉक्यूमेंट या फिर वर्ड फाइल तैयार करने के बाद  Sava As PDF के format में save कर देते है तो वो digitally created PDF files कहलाती है. ऐसे फाइल्स को आसानी से edit किया जा सकता है.
  2. Image Only or Scanned PDF:  जब किसी भी डॉक्यूमेंट की हार्ड कॉपी को स्कैनर की मदद से स्कैन करने के बाद उसको PDF के format में सेव करते है तो वो एक locked file होती है जिसे हम एडिट नहीं कर सकते है. इस तरीके के PDF files को image only या scanned pdf बोला जाता है.
  3. Searchable PDF files: ऐसी पीडीऍफ़ फाइल जो image के फॉर्म में होती है लेकिन वँहा टेक्स्ट को सर्च किया जा सकता है उसको searchable pdf files बोला जाता है.

पीडीऍफ़ फाइल्स का एक्सटेंशन 

जितने भी तरीके के PDF files होते है उनका एक्सटेंशन .pdf होता है. इस एक्सटेंशन नाम की सहायता से हम किसी भी पीडीऍफ़ फाइल को पहचान सकते है.

दोस्तों इस पोस्ट में PDF ka full form और उससे related जानकारी प्रदान की गई है. अगर आपको पीडीऍफ़ से जुड़ी कोई और जानकारी चाहिए तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है. इसके अलावा इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे.

 

Visited 8 times, 1 visit(s) today

Leave a Comment

How to Join WhatsApp After BCA: A Comprehensive Guide Master C Language in 6 Months: 15 Hidden Facts That Will Amaze You!