What Is VPN – VPN क्या होता है?

नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में मैं आपको बताऊंगा की VPN क्या होता है (What is VPN) और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है. इसके अलावा मैं आपको इसके फायदे और नुक्सान दोनों बताने वाला हूँ.

आइये सबसे पहले जान लेते है की VPN होता क्या है (What is VPN) और VPN को हम क्यों use करते है?

VPN क्या है? (What Is VPN In Hindi)

VPN का मतलब होता है वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (Virtual Private Network). जैसा की इसके नाम को देख कर पता चल रहा है की ये एक प्राइवेट नेटवर्क (Private network) जो आपकी ऑनलाइन आइडेंटिटी (Online Identity) को सुरक्षित रखता है. इसकी मदद से आप अपने कंप्यूटर के IP address को बदलकर किसी दूसरे कंट्री (country) के IP address को use कर सकते है. इसका ये फयदा है की आपके कंट्री में बैन कोई भी website को आप आसानी से एक्सेस कर सकते है. इसके अलावा VPN आपके IP address को छिपाता है जिससे इंटरनेट पर आपकी आइडेंटिटी लिक नहीं होती है.
VPN यानि वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (Virtual Private Network) पब्लिक नेटवर्क्स यूज़ करते टाइम प्रोटेक्टेड कनेक्शन प्रोवाइड करवाता है. ये एक लीगल टेक्नोलॉजी है जो ऑनलाइन businesses, organizations, सरकारी एजेंसीज , एजुकेशन सेंटर्स और individuals के द्वारा डाटा को गोपनीय रखने के लिए किया जाता है.
what is vpn
अगर साफ़ साफ़ कहा जाये तो पब्लिक नेटवर्क (Public Network) पर अपनी सिक्योरिटी के लिए VPN का इस्तेमाल किया जाता है.

VPN का फुल फॉर्म

VPN का फुल फॉर्म वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (Virtual Private Network) होता है.

VPN का इस्तेमाल कब करना चाहिए

अगर आपके लिए प्राइवेसी बहुत ज्यादा जरूरी है तो आपको हर बार इंटरनेट से कनेक्ट समय VPN का इस्तेमाल करना ही चाहिए. लेकिन फिर भी कुछ ऐसी situations होती है जंहा हमे VPN का जरूर से यूज़ (use) करना चाहिए जैसे की
  • ऑनलाइन स्ट्रीमिंग (online streaming) करते समय
  • ट्रैवेलिंग के दौरान
  • पब्लिक Wi-Fi यूज़ करते वक़्त
  • गेमिंग(gamming) करते समय
  • ऑनलाइन शॉपिंग (online shopping) करते वक़्त
  • ऑनलाइन बैंकिंग (online banking) करते समय

VPN कितने  तरह का होता है

VPN के दो basic types होते है.
  1. Remote Access VPN
  2. Site to Site VPN
  • Remote Access VPN:
इस VPN के जरिये user दूसरे नेटवर्क पर एक प्राइवेट एन्क्रिप्शन टनल के जरिये कनेक्ट हो पाते है. इसकी मदद से कंपनी के internet server या पब्लिक इंटरनेट से कनेक्ट हुआ जा सकता है.
  • Site to Site VPN:
Site to Site VPN को Router to Router VPN भी कहा जाता है. इस तरह के VPN का यूज़ ज्यादा तर corporate world में किया जाता है.

VPN इस्तेमाल करने के फयदे

VPN यूज़ करने के अनेको फयदे है. जैसे की
  • VPN के यूज़ से आपकी ब्राउज़िंग हिस्ट्री (browsing history) हाईड हो जाती है.
  • VPN आपके IP address और location को भी इंटरनेट पर हाईड कर देता है.
  • इस technology के हेल्प से आप अपने कंट्री में blocked websites और applications को आसानी से एक्सेस कर सकते है.
  • VPN आपके वेब एक्टिविटी (web activity) को भी हाईड कर देता है.
  • VPN आपको secure इंटरनेट एक्सेस प्रदान करता है.

VPN इस्तेमाल करने के Disadvantages

what is vpn

अभी तक हमने VPN use करने के सिर्फ फायदे ही देखे थे. अब हम इसके कुछ नुकशान भी देखने वाले है
  • VPN आपको comparatively स्लो स्पीड प्रोवाइड करता है
  • VPN आपको कोई कूकीज protection नहीं देता है.
  • ये टेक्नोलॉजी आपको टोटल प्राइवेसी प्रोटेक्शन (total privacy protection) नहीं देता है.

आशा करता हूँ दोस्तों आपको ये पोस्ट पढ़ कर समझ में आ गया होगा की VPN क्या होता है (What is VPN)और इसका इस्तेमाल क्यों किया जाता है. अगर अब भी इससे जुड़ी कोई आपको प्रॉब्लम है तो कमेंट करके हमसे जरूर पूछे.


Read more articles:

Visited 1 times, 1 visit(s) today

Leave a Comment

How to Join WhatsApp After BCA: A Comprehensive Guide Master C Language in 6 Months: 15 Hidden Facts That Will Amaze You!